श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र || Sri Ganesha Pancharatnam Stotram

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram ke Fayde,Sri Ganesha Pancharatnam Stotram Ke Labh, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram Benefits, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram Pdf, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram in Sanskrit, Sri Ganesha Pancharatnam Stotram Lyrics.

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र || Sri Ganesha Pancharatnam Stotram

श्री गणेशपञ्चरत्नम् स्तोत्र के रचियता श्री आदी शंकराचार्य जी हैं ! श्री गणेशपञ्चरत्नम् स्तोत्र पूर्ण रूप से संस्कृत भाषा में हैं ! श्री गणेशपञ्चरत्नम् स्तोत्र में भगवान श्री गणेश जी को पांच रत्न कहा गया हैं ! जो भी व्यक्ति श्री गणेशपञ्चरत्नम् स्तोत्र का नियमित रूप से पाठ करता हैं उस पर भगवान श्री गणेश जी पूर्ण रूप से आशीवार्द रहता है और वह व्यक्ति पूर्ण रूप से स्वास्थ्य और अपना पूरा जीवन शांत व् सुखद रूप से जीता हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 sri ganesha pancharatnam stotram by acharya pandit lalit sharma 

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र || Sri Ganesha Pancharatnam Stotram

मुदाकरात्तमोदकं सदा विमुक्तिसाधकं कलाधरावतंसकं विलासिलोकरक्षकम् ।

अनायकैकनायकं विनाशितेभदैत्यकं नताशुभाशुनाशकं नमामि तं विनायकम् ॥१॥

नतेतरातिभीकरं नवोदितार्कभास्वरं नमत्सुरारिनिर्जरं नताधिकापदुद्धरम् ।

सुरेश्वरं निधीश्वरं गजेश्वरं गणेश्वरं महेश्वरं तमाश्रये परात्परं निरन्तरम् ॥२॥

समस्तलोकशंकरं निरस्तदैत्यकुञ्जरं दरेतरोदरं वरं वरेभवक्त्रमक्षरम् ।

कृपाकरं क्षमाकरं मुदाकरं यशस्करं मनस्करं नमस्कृतां नमस्करोमि भास्वरम् ॥३॥

अकिंचनार्तिमार्जनं चिरन्तनोक्तिभाजनं पुरारिपूर्वनन्दनं सुरारिगर्वचर्वणम् ।

प्रपञ्चनाशभीषणं धनंजयादिभूषणम् कपोलदानवारणं भजे पुराणवारणम् ॥४॥

youtube Integration

नितान्तकान्तदन्तकान्तिमन्तकान्तकात्मजं अचिन्त्यरूपमन्तहीनमन्तरायकृन्तनम् ।

हृदन्तरे निरन्तरं वसन्तमेव योगिनां तमेकदन्तमेव तं विचिन्तयामि सन्ततम् ॥५॥

महागणेशपञ्चरत्नमादरेण योऽन्वहं प्रजल्पति प्रभातके हृदि स्मरन् गणेश्वरम् ।

अरोगतामदोषतां सुसाहितीं सुपुत्रतां समाहितायुरष्टभूतिमभ्युपैति सोऽचिरात् ॥६॥

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : कालसर्प दोष के उपाय : Click Here

जानें : कालसर्प दोष शांति मंत्र : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *