शुक्र की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

शुक्र की महादशा और अंतर्दशा के उपाय, Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay, Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Totke, Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Me Kare Ye Upay, Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Me Kya Kare, Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Mantra.

आपकी कुंडली के अनुसार 10 वर्ष के आसन उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) आज ही बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में अभी Mobile पर कॉल या Whats app Number पर सम्पर्क करें : 7821878500

शुक्र की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

आज हम आपको Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay बताने जा रहे हैं ! Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay को करके आप शुक्र ग्रह के दुष्प्रभाव से बच सकते हैं ! बताये जा रहे उपाय को आपको शुक्र जब अशुभ प्रभाव दे रहा हो या शुक्र आपकी कुंडली में नीच या अशुभ भाव में हो या शुक्र की दशा व् अन्तर्दशा या गोचर में अशुभ परिणाम दे रहा हो जब बताये जा रहे शुक्र के उपाय को करने चाहिए !! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Sharma द्वारा बताये जा रहे शुक्र की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay को पढ़कर आप भी बहुत आसन तरीक़े से शुक्र ग्रह से हो रही परेशानी को दूर कर सकोंगे !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता–पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay By Acharya Pandit Lalit Sharma

शुक्र की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Shukra Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha में जातक को शुक्रवार के दिन रोज कौए को चावल और बुरा खिलाना चाहिए !
  • शुक्र ग्रह की दशा व् अन्तर्दशा में जातक को श्री यंत्र की स्थापना करके उसकी हर रोज पूजा करनी चाहिए !
  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha में जातक को शुक्र का रत्न हीरा अथवा जरकिन, श्वेत पुखराज धारण करना चाहिए !
  • शुक्र ग्रह की दशा व् अन्तर्दशा में जातक को दिए गये मंत्र का जाप करना चाहिए ! मंत्र : “ऊँ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा”।। 
  • शुक्र ग्रह की दशा व् अन्तर्दशा में श्रीसूक्त का पाठ करना चाहिए !

  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha के समय शुक्र मन्त्र का जाप करना चाहिए !
  • शुक्र ग्रह की दशा व् अन्तर्दशा में जातक को शुक्र स्तोत्र पढ़ना लाभकारी रहता हैं ! 
  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha में जातक को शुक्र कवच का पाठ करना भी लाभकारी रहता हैं ! 
  • शुक्र ग्रह की दशा व् अंतर्दशा चल रही हो और पति और पत्नी के बीच में अनबन हो तो जातक को अपनी पत्नी को हर दिन 1 गुलाब को फूल देना चाहिए !

यदि आपके जीवन में भी शुक्र ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित ब्राह्मण पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha के समय शुक्र के कारन संतान में परेशानी आ रही हो तो जातक को हरसिंगार का पौधा लगाना चाहिए व् उसको सींचना चाहिए व् देखभाल करनी चाहिए !
  • शुक्र ग्रह के कारन संतान में परेशानी आ रही हो तो नवरात्रि में मां दुर्गा के लिए व्रत रखना, अखंड ज्योत जलाना, दुर्गा सप्तशती का पाठ करना तथा नवमी वाले दिन 2 से 10 साल तक की कन्याओं को दूध से बनी खीरे खिलाना। संतान प्राप्ति के लिए पंचमी के दिन माँ स्कंदमाता तथा अष्टमी के दिन माँ महागौरी की विशेष पूजा आराधना करनी चाहिए !

हमारे Youtube चैनल को अभी SUBSCRIBES करें ||

मांगलिक दोष निवारण || Mangal Dosha Nivaran

दी गई YouTube Video पर क्लिक करके मांगलिक दोष के उपाय || Manglik Dosh Ke Upay बहुत आसन तरीके से सुन ओर देख सकोगें !

  • शुक्र ग्रह के कारन संतान में परेशानी आ रही हो और Shukra Ki Mahadasha-Antardasha चल रही हो तो स्फटिक के शिवलिंग घर में स्थापित कर भगवान् शिव जी की पूजा आराधना करनी चाहिए !
  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha चल रही हो और जिस जातक की कुंडली में शुक्र दुसरे भाव व् गुरु 8 ,9 ,या 10 भाव में हो तो जातक का शादी का जीवन कलहपूर्ण रहता है व् जातक के गुप्त रोग का भी शिकार हो सकता है इसके लिए जातक को प्रवाल भस्म का सेवन करना चाहिए !
  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha चल रही हो और जिस जातक की कुंडली में अशुभ शुक्र पंचम भाव में हो और राहू लग्न या सप्तम स्थान में हो तो जातक की संतान आज्ञाकारी नही रहती है इसलिए जातक को इससे बचने के लिए अपना चरित्र सही रखें व् दही-दूध से अपने गुप्तांग साफ़ करें !
  • जिस जातक की कुंडली में नवम स्थान में शुक्र के साथ चंद्र व् मंगल हों तो जातक मकान बनाते समय मकान की नीव में छोटे से मिटटी के पात्र में शहद भरकर गाड़ देना चाहिए !

  • शुक्र ग्रह की दशा व् अन्तर्दशा चल रही हो और जिस जातक की कुंडली में 12वें भाव में शुक्र ग्रह हो तो वह जातक की पत्नी के लिए ख़राब होता है इसलिए जातक को नीले या बैंगनी रंग के कुछ फूल संध्या समय जंगल में गाड़ देना चाहिए !
  • Shukra Ki Mahadasha-Antardasha चल रही हो और जिस जातक की कुंडली में 12वें भाव में शुक्र व् 2,6,7 व् 12 भाव में राहू हो तो जातक को 25 वें उम्र में कष्ट को दूर करने के लिए काली गाय या भैस पालें या उसकी सेवा करनी चाहिए !

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी शुक्र ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित ब्राह्मण पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

शुक्र ग्रह के उपाय || Shukra Grah Ke Upay

शुक्र ग्रह की शांति के उपाय || Shukra Grah Ki Shanti Ke Upay

शुक्र को मजबूत करने के उपाय || Shukra Ko Majboot Karne Ke Upay

शुक्र को प्रसन्न करने के उपाय || Shukra Ko Prasan Karne Ke Upay

शुक्र ग्रह के लाल किताब उपाय || Shukra Grah Ke Lal Kitab Upay

शुक्र ग्रह के मंत्र || Shukra Grah Ke Mantra

शुक्र स्तोत्र || Shukra Stotram

शुक्र स्तोत्र || Shukra Stotra

शुक्र कवच || Shukra Kavacham

शुक्र अष्टोत्तर शतनामावली || Shukra Ashtottara Shatanamavali

शुक्र अष्टोत्तर शतनामावली स्तोत्रम् || Shukra Ashtottara Shatanamavali Stotram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *