श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ ( Shri Tulasi Stotram ) Tulasi Stotram

श्री तुलसी स्तोत्रम्‌, Shri Tulasi Stotram, Shri Tulasi Stotram Ke Fayde, Shri Tulasi Stotram Ke Labh, Shri Tulasi Stotram Benefits, Shri Tulasi Stotram Pdf, Shri Tulasi Stotram in Sanskrit, Shri Tulasi Stotram Lyrics. 

श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ || Shri Tulasi Stotram

तुलसी पौधे को हमारे हिन्दू धर्म में पूजनीय व् देवी का दर्जा दिया गया हैं ! यह तो आप सब पहले से जानते है की तुलसी पौधे को भगवान श्री विष्णु जी की पत्नी का अवतार माना जाता है ! श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ के रचियता ऋषि पुंड्रार्की ने की हैं ! श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ का पाठ आप नियमित रूप से तुलसी पूजा के समय कर सकते हैं ! श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ का नियमित रूप से जो भी व्यक्ति पाठ करता हैं उसके जीवन के कष्ट नष्ट हो जाते है और दीर्घायु जीवन जीता हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 Shri Tulasi Stotram By Acharya Pandit Lalit Trivedi

श्री तुलसी स्तोत्रम्‌ || Shri Tulasi Stotram

जगद्धात्रि नमस्तुभ्यं विष्णोश्च प्रियवल्लभे ।

यतो ब्रह्मादयो देवाः सृष्टिस्थित्यन्तकारिणः ॥१॥

नमस्तुलसि कल्याणि नमो विष्णुप्रिये शुभे ।

नमो मोक्षप्रदे देवि नमः सम्पत्प्रदायिके ॥२॥

तुलसी पातु मां नित्यं सर्वापद्भ्योऽपि सर्वदा ।

कीर्तितापि स्मृता वापि पवित्रयति मानवम् ॥३॥

नमामि शिरसा देवीं तुलसीं विलसत्तनुम् ।

यां दृष्ट्वा पापिनो मर्त्या मुच्यन्ते सर्वकिल्बिषात् ॥४॥

तुलस्या रक्षितं सर्वं जगदेतच्चराचरम् ।

या विनिहन्ति पापानि दृष्ट्वा वा पापिभिर्नरैः ॥५॥

नमस्तुलस्यतितरां यस्यै बद्ध्वाञ्जलिं कलौ ।

कलयन्ति सुखं सर्वं स्त्रियो वैश्यास्तथाऽपरे ॥६॥

तुलस्या नापरं किञ्चिद् दैवतं जगतीतले ।

यथा पवित्रितो लोको विष्णुसङ्गेन वैष्णवः ॥७॥

तुलस्याः पल्लवं विष्णोः शिरस्यारोपितं कलौ ।

आरोपयति सर्वाणि श्रेयांसि वरमस्तके ॥८॥

youtube Integration

तुलस्यां सकला देवा वसन्ति सततं यतः ।

अतस्तामर्चयेल्लोके सर्वान् देवान् समर्चयन् ॥९॥

नमस्तुलसि सर्वज्ञे पुरुषोत्तमवल्लभे ।

पाहि मां सर्वपापेभ्यः सर्वसम्पत्प्रदायिके ॥१०॥

इति स्तोत्रं पुरा गीतं पुण्डरीकेण धीमता ।

विष्णुमर्चयता नित्यं शोभनैस्तुलसीदलैः ॥११॥

तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी ।

धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमनःप्रिया ॥१२॥

लक्ष्मीप्रियसखी देवी द्यौर्भूमिरचला चला ।

षोडशैतानि नामानि तुलस्याः कीर्तयन्नरः ॥१३॥

लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत् ।

तुलसी भूर्महालक्ष्मीः पद्मिनी श्रीर्हरिप्रिया ॥१४॥

तुलसि श्रीसखि शुभे पापहारिणि पुण्यदे ।

नमस्ते नारदनुते नारायणमनःप्रिये ॥१५॥

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post :

तुलसी के उपाय || Tulsi Ke Upay

तुलसी पूजा विधि || Tulsi Puja Vidhi

तुलसी पूजा मंत्र || Tulsi Puja Mantra

तुलसी माता की कथा || Tulsi Mata Ki Katha

तुलसी विवाह व्रत कथा || Tulsi Vivah Vrat Katha

तुलसी विवाह पूजा विधि || Tulsi Vivah Puja Vidhi

श्री तुलसी स्तोत्र || Shri Tulsi Stotra

श्री तुलसी स्तोत्र || Sri Tulasi Stotra

श्री तुलसी नामाष्टक || Shri Tulsi Namashtakam

श्री तुलसी कवचम् || Shri Tulsi Kavacham

श्री तुलसी अष्टोत्तर शतनामावली || Sri Tulsi Ashtottara Shatanamavali

श्री तुलसी अष्टोत्तर शतनामावली || Shri Tulasi Ashtottara Shatanamavali

श्री तुलसी शतनाम स्तोत्रम || Sri Tulsi Ashtottara Shatanama Stotram

श्री तुलसी चालीसा || Shri Tulsi Chalisa

श्री तुलसी माता की आरती || Shri Tulsi Mata Ki Aarti

कार्तिक मास के उपाय || Kartik Maas Ke Upay

कार्तिक मास व्रत कथा || Kartik Maas Vrat Katha

कार्तिक मास व्रत पूजा विधि || Kartik Maas Vrat Puja Vidhi

कार्तिक मास में तुलसी पूजा विधि || Kartik Maas Me Tulsi Puja Vidhi

तुलसी के बारे में जानकारी || Tulsi Ke Bare Me Jankari

तुलसी कौन थी || Tulsi Kon Thi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *