श्री गीता की आरती || Shri Gita Ki Aarti

श्री गीता की आरती, Shri Gita Ki Aarti, Shri Gita Ki Aarti Ke Fayde, Shri Gita Ki Aarti Ke Labh, Shri Gita Ki Aarti Benefits, Shri Gita Ki Aarti Pdf, Shri Gita Ki Aarti in Hindi, Shri Gita Ki Aarti Lyrics. 

श्री गीता की आरती || Shri Gita Ki Aarti

श्री गीता जी हिन्दू धर्म का एक पवित्र ग्रन्थ हैं ! श्री गीता जी की आरती नियमित रूप से पढ़ने से जातक के बुरे कर्म समाप्त होने लगते हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Shri Gita Ki Aarti By Acharya Pandit Lalit Trivedi

श्री गीता की आरती || Shri Gita Ki Aarti

करो आरती गीता जी की ||

जग की तारन हार त्रिवेणी,
स्वर्गधाम की सुगम नसेनी |

अपरम्पार शक्ति की देनी,
जय हो  सदा पुनीता की ||

ज्ञानदीन की दिव्य-ज्योती मां,
सकल जगत की तुम  विभूती मां |

महा निशातीत प्रभा पूर्णिमा,
प्रबल शक्ति भय भीता  की || करो०

अर्जुन की तुम सदा दुलारी,
सखा कृष्ण की प्राण प्यारी  |

षोडश कला पूर्ण विस्तारी,
छाया नम्र विनीता की || करो० ||

श्याम  का हित करने वाली,
मन का सब मल हरने वाली |

नव उमंग नित भरने  वाली,
परम प्रेरिका कान्हा की || करो० ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *