पूर्णिमा के उपाय ( Purnima Ke Upay ) Purnima Ke Din Kare Ye Upay

पूर्णिमा के उपाय, Purnima Ke Upay, Purnima Ke Totke, Purnima Ke Mantra, Purnima Ke Din Kare Ye Upay, Purnima Ke Din Kare Vishesh Upay, Purnima Ke Din Kya Kare, Purnima Ki Raat Ke Upay.

पूर्णिमा के उपाय || Purnima Ke Upay

यह तो आप जानते है की पूर्णिमा हर महीने आती हैं पर क्या आपको पता है आप पूर्णिमा के दिन अपनी कुछ परेशानी का हल कुछ आसन से उपाय के साथ कर सकते हैं ! यही बताने के लिए हम आपके लिए पूर्णिमा के दिन करने वाले कुछ बताने जा रहे है जिन्हें आप हर पूर्णिमा पर करके विशेष लाभ उठा सकते है वैसे तो आप सब जानते होंगे की पूर्णिमा पर लक्ष्मी माँ की विशेष पूजा की जाये तो आपके ऊपर सदैव माता लक्ष्मी माँ की कृपा बनी रहती है ! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi द्वारा बताये जा रहे पूर्णिमा के उपाय || Purnima Ke Upay के अनुसार आप यह जान सकोगे की पूर्णिमा कैसे बनाये इस दिन क्या उपाय करें ! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Purnima Ke Upay By Acharya Pandit Lalit Trivedi

पूर्णिमा के उपाय || Purnima Ke Upay

  • प्रत्येक Purnima Ke Din चन्द्र उदय होने के बाद चाँदनी रात में खीर बनाकर अपने पितृ को भोग लगाने से गृह कलह, व्यापार बाधा आदि समस्यों से मुक्ति मिलती है !
  • हिदु धर्म शास्त्रों के अनुसार पूर्णिमा माँ लक्ष्मी को विशेष प्रिय है । इस दिन माँ लक्ष्मी की आराधना करने से जातक को जीवन में किसी भी चीज़ की कमी नहीं रहती है ।
  • शास्त्रानुसार हर Purnima Ke Din सुबह १० बजे पीपल के वृक्ष पर माँ श्री लक्ष्मी का आगमन होता है जो जातक इस दिन सुबह उठकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर पीपल पेड़ के पास जाकर मीठा जल अर्पण करे और साथ में कुछ मीठा रखकर धूपबत्ती या दीपक जला कर माँ लक्ष्मी का पूजन कर माता लक्ष्मी जी को अपने घर आने के लिए आमंत्रित ऐसे जातक पर लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है ! 
  • यदि आप अपने दाम्पत्य जीवन को प्रेम पूर्वक और मधुर बनाना चाहते है तो आप दोनों ( पति पत्नी ) में से एक को प्रत्येक पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा को दूध का अर्ध्य अवश्य देना चाहिए !
  • प्रत्येक Purnima के दिन किसी शिव मंदिर में जाकर सवा किलो अखण्डित चावल भगवान शिव जी को विधिपूर्वक पूजा करने के बाद अपने दोनों हाथो को मिलाकर हाथों में जितने चावल आ सके उतने लेकर शिवलिंग पर चढ़ाये और बाकि बचे हुए चावल को जरुरत मंद गरीब या पुजारी को दान कर दें. ऐसा करने से आपकी समस्त आर्थिक स्थिति सही हो जाएगी और आपके समस्त कार्य में सफलता मिलेगी ! नोट : इस उपाय को आप सावन के हर सोमवार को कर सकते हो !

  • किसी भी जातक के धन की परेशानी चल रही है तो प्रत्येक पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के समय चन्द्रमा को कच्चे दूध में चीनी और चावल मिलाकर “ॐ स्रां स्रीं स्रौं स: चन्द्रमा नम:” या “ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:” मंत्र जप करते हुए अर्ध्य देना चाहिए ऐसा करने से जातक के जीवन में धीरे धीरे उसकी आर्थिक समस्याओं समाप्त होने लगती है !
  • प्रत्येक Purnima Ke Din मंदिर जाकर शिवलिंग पर श्रदापूर्वक शहद, कच्चा दूध, बेलपत्र, शमीपत्र और फल चढ़ाने से भगवान शिव की जातक पर सदैव कृपा बनी रहती है !
  • प्रत्येक Purnima के दिन हर जातक को अपने घर के मंदिर में प्रेम, शुभता और धन लाभ के लिए श्री यंत्र, व्यापार वृद्धि यंत्र, कुबेर यंत्र, एकाक्षी नारियल, दक्षिणवर्ती शंख आदि को साबुत अक्षत के उपाय स्थापित कर देना चाहिए क्युकी यह सब माता लक्ष्मी की अतिप्रिय वस्तु है ! हर पूर्णिमा को इन चावलों को जिनको आसान के रूप में स्थान दिया गया है उन्हें बदल कर नए चावल रख देने चाहिए और पुराने चावलों को किसी पीपल वृक्ष के नीचे अथवा बहते हुए जल में प्रवाहित कर देना चाहिए ! 
  • प्रत्येक पूर्णिमा के दिन मंदिर जाकर शिवलिंग पर श्रदापूर्वक घिसे हुए सफ़ेद चंदन में केसर मिलाकर लगाने से घर से कलह और अशांति समाप्त होती है !
  • प्रत्येक Purnima Ke Din इत्र और सुगन्धित धूपबत्ती लेकर माता लक्ष्मी जी के मंदिर में जाकर अर्पण करें उसके बाद इत्र की शीशी खोलकर माता लक्ष्मी जी के वस्त्र पर छिड़क दें और धूपबत्ती या दीपक जला दे और अपने घर स्थाई रूप से रहने की प्रार्थना करे ऐसा मात्र करने से जातक के यंहा धन, सुख समृद्धि और ऐश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी का उसके घर स्थाई रूप से निवास हो जायेगा !

  • प्रत्येक Purnima के दिन सुबह के समय घर के मुख्य दरवाज़े पर आम के ताजे पत्तों से बना तोरण बाँधने से घर के वातावरण में शुभता आती है !
  • प्रत्येक Purnima की रात में 15 से 20 मिनट तक चन्द्रमा के ऊपर त्राटक ( लगातार देखना ) विधि करने से जातक की नेत्रों की ज्योति तेज होती व् बढ़ती है !
  • यदि आप अपने दाम्पत्य जीवन को प्रेम पूर्वक लम्बे समय के लिए रखना चाहते है तो कभी भी भूलवश पूर्णिमा और अमावस्या के दिन जातक शारीरिक सम्बन्ध या सम्भोग नही करना चाहिए ! 
  • प्रत्येक Purnima के दिन चन्द्रमा के उदय होने के बाद साबूदाने की खीर मिश्री डालकर बनाकर माँ लक्ष्मी जी का भोग लगाकर उसे प्रसाद के रूप में वितरित करने से धन के आगमन के मार्ग खुल जाते है !
  • प्रत्येक Purnima के दिन मां श्री लक्ष्मी के चित्र या फोटो पर 11 कौड़ियां चढ़ाकर उन पर हल्दी से तिलक करें उसके बाद अगले दिन सुबह इन कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रखें लें ! इस उपाय से घर में धन की कमी नही रहती है पर एक बात का ध्यान रखें की प्रत्येक Purnima के दिन इन कौड़ियों को अपनी तिजोरी से निकाल कर माता के सम्मुख रखकर उन पर पुन: हल्दी से तिलक करें फिर अगले दिन उन्हें लाल कपड़े में बांध कर अपनी तिजोरी में रखे ले !

  • प्रत्येक Purnima Ke Din किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन जुए, शराब आदि नशे और क्रोध एवं हिंसा से भी दूर रहना चाहिए। इस दिन बड़े बुजुर्ग अथवा किसी भी स्त्री से भूलकर भी अपशब्द ना बोलें! 
  • आयुर्वेद के अनुसार Purnima Ki Raat में चन्द्रमा की चाँदनी सब मनुष्यों के लिए अत्यंत लाभदायक रहती है यदि पूर्णिमा की रात में चन्द्रमा  के प्रकाश की किरणे गर्भवती महिला की नाभि पर पड़े तो उस महिला का गर्भ पुष्ट हो जाता है ! इसलिए गर्भवती स्त्रियों को तो विशेष रूप से कुछ समय के लिए Purnima की रात चन्द्रमा की चाँदनी में रहना चाहिए !
  • हर Purnima Ke Din सुबह के समय हल्दी में थोडा पानी डालकर घर के मुख्य दरवाज़े / प्रवेश द्वार पर ॐ और स्वातिक बनाना चाहिए !
  • यदि कोई भी जातक मानसिक तनाव या मानसिक परेशानी रहता है तो प्रत्येक Purnima के दिन अपने हाथ से खीर बनाकर गरीब बच्चे या लोंगो को खिलने से जातक की मानसिक तनाव या मानसिक परेशानी दूर हो जाती है !

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post :

शरद पूर्णिमा की पूजा विधि || Sharad Purnima Puja Vidhi

शरद पूर्णिमा के उपाय || Sharad Purnima Ke Upay

राशि अनुसार शरद पूर्णिमा के उपाय || Rashi Anusar Sharad Purnima Ke Upay

शरद पूर्णिमा व्रत कथा || Sharad Purnima Vrat Katha

श्री सत्यनारायण पूजा विधि || Shri Satyanarayan Puja Vidhi

श्री सत्यनारायण व्रत कथा || Shri Satyanarayan Vrat Katha

श्री सत्यनारायण की आरती || Shri Satyanarayan Ki Aarti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *