पित्र देव चालीसा ( Pitra Dev Chalisa ) Shri Pitar Dev Chalisa

पित्र देव चालीसा, Pitra Dev Chalisa, पित्र देव चालीसा के फ़ायदे, Pitra Dev Chalisa Ke Fayde, पित्र देव चालीसा के लाभ, Pitra Dev Chalisa Ke Labh, Pitra Dev Chalisa Benefits, Pitra Dev Chalisa Pdf, Pitra Dev Chalisa in Sanskrit, Pitra Dev Chalisa Lyrics.

आपकी कुंडली के अनुसार 10 वर्ष के आसन उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) आज ही बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में अभी Mobile पर कॉल या Whats app Number पर सम्पर्क करें : 7821878500

पित्र देव चालीसा ||Pitra Dev Chalisa

जिस भी जातकों के जन्मकुंडली में पितृ दोष है तो आपको Pitra Dev Chalisa का पाठ करना बहुत लाभकारी व् हितकारी होगा ! Pitra Dev Chalisa का पाठ हमें श्राद्ध पक्ष या फिर हम अपने पितरो की पुण्य तिथि पर ब्राह्मण को भोजन करवाते समय Pitra Dev Chalisa का पाठ किया जाना चाहिये ! यही आप पितृ दोष के कारन परेशान चल रहे हो या आपको कार्य में रुकावट आ रही हो तो Pitra Dev Chalisa का हर दिन पाठ मात्र करने से आप पितृ दोष में कमी ला सकते है इसका पाठ हर रोज कीजिये !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500 Pitra Dev Chalisa By Acharya Pandit Lalit Sharma

पित्र देव चालीसा || Pitra Dev Chalisa

|| दोहा ||

हे पितरेश्वर आपको दे दियो आशीर्वाद,

चरणाशीश नवा दियो रखदो सिर पर हाथ ।

सबसे पहले गणपत पाछे घर का देव मनावा जी ।

हे पितरेश्वर दया राखियो, करियो मन की चाया जी । ।

|| चौपाई ||

पितरेश्वर करो मार्ग उजागर, चरण रज की मुक्ति सागर ।

परम उपकार पित्तरेश्वर कीन्हा, मनुष्य योणि में जन्म दीन्हा ।

मातृ-पितृ देव मन जो भावे, सोई अमित जीवन फल पावे ।

जै-जै-जै पित्तर जी साईं, पितृ ऋण बिन मुक्ति नाहिं ।

चारों ओर प्रताप तुम्हारा, संकट में तेरा ही सहारा ।

नारायण आधार सृष्टि का, पित्तरजी अंश उसी दृष्टि का ।

प्रथम पूजन प्रभु आज्ञा सुनाते, भाग्य द्वार आप ही खुलवाते ।

झुंझनू में दरबार है साजे, सब देवों संग आप विराजे ।

प्रसन्न होय मनवांछित फल दीन्हा, कुपित होय बुद्धि हर लीन्हा ।

पित्तर महिमा सबसे न्यारी, जिसका गुणगावे नर नारी ।

तीन मण्ड में आप बिराजे, बसु रुद्र आदित्य में साजे ।

नाथ सकल संपदा तुम्हारी, मैं सेवक समेत सुत नारी ।

छप्पन भोग नहीं हैं भाते, शुद्ध जल से ही तृप्त हो जाते ।

तुम्हारे भजन परम हितकारी, छोटे बड़े सभी अधिकारी ।

भानु उदय संग आप पुजावै, पांच अँजुलि जल रिझावे ।

ध्वज पताका मण्ड पे है साजे, अखण्ड ज्योति में आप विराजे ।

सदियों पुरानी ज्योति तुम्हारी, धन्य हुई जन्म भूमि हमारी ।

शहीद हमारे यहाँ पुजाते, मातृ भक्ति संदेश सुनाते ।

जगत पित्तरो सिद्धान्त हमारा, धर्म जाति का नहीं है नारा ।

हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सब पूजे पित्तर भाई ।

youtube Integration

हिन्दू वंश वृक्ष है हमारा, जान से ज्यादा हमको प्यारा ।

गंगा ये मरुप्रदेश की, पितृ तर्पण अनिवार्य परिवेश की ।

बन्धु छोड़ ना इनके चरणाँ, इन्हीं की कृपा से मिले प्रभु शरणा ।

चौदस को जागरण करवाते, अमावस को हम धोक लगाते ।

जात जडूला सभी मनाते, नान्दीमुख श्राद्ध सभी करवाते ।

धन्य जन्म भूमि का वो फूल है, जिसे पितृ मण्डल की मिली धूल है ।

श्री पित्तर जी भक्त हितकारी, सुन लीजे प्रभु अरज हमारी ।

निशिदिन ध्यान धरे जो कोई, ता सम भक्त और नहीं कोई ।

तुम अनाथ के नाथ सहाई, दीनन के हो तुम सदा सहाई ।

चारिक वेद प्रभु के साखी, तुम भक्तन की लज्जा राखी ।

नाम तुम्हारो लेत जो कोई, ता सम धन्य और नहीं कोई ।

जो तुम्हारे नित पाँव पलोटत, नवों सिद्धि चरणा में लोटत ।

सिद्धि तुम्हारी सब मंगलकारी, जो तुम पे जावे बलिहारी ।

जो तुम्हारे चरणा चित्त लावे, ताकी मुक्ति अवसी हो जावे ।

सत्य भजन तुम्हारो जो गावे, सो निश्चय चारों फल पावे ।

तुमहिं देव कुलदेव हमारे, तुम्हीं गुरुदेव प्राण से प्यारे ।

सत्य आस मन में जो होई, मनवांछित फल पावें सोई ।

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई, शेष सहस्र मुख सके न गाई ।

मैं अतिदीन मलीन दुखारी, करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी ।

अब पित्तर जी दया दीन पर कीजै, अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै ।

|| दोहा ||

पित्तरों को स्थान दो, तीरथ और स्वयं ग्राम ।

श्रद्धा सुमन चढ़ें वहां, पूरण हो सब काम ।

झुंझनू धाम विराजे हैं, पित्तर हमारे महान ।

दर्शन से जीवन सफल हो, पूजे सकल जहान । ।

जीवन सफल जो चाहिए, चले झुंझनू धाम ।

पित्तर चरण की धूल ले, हो जीवन सफल महान । ।

|| इति सम्पूर्ण ||

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

पितृदोष निवारण के उपाय || Pitra Dosh Nivaran Ke Upay

पितृदोष शांति के उपाय || Pitra Dosh Shanti Ke Upay

पितृदोष से मुक्ति के उपाय || Pitra Dosh Se Mukti Ke Upay

पितृ दोष दूर करने के उपाय || Pitra Dosh Dur Karne Ke Upay

पितृ दोष शांति मंत्र || Pitra Dosh Shanti Mantra

सूर्य कृत पितृ दोष के उपाय || Surya Krat Pitra Dosh Ke Upay

मंगलकृत पितृदोष के उपाय || Mangal Krat Pitra Dosh Ke Upay

पितृ स्तोत्र ( Pitra Stotra ) पितृ देव स्तोत्र ( Pitra Dev Stotram )

कब करें पितृ श्राद्ध ( Kab Kare Pitru Shraddha ) Pitru Shraddha Tithi

पितृ श्राद्ध पूजा विधि ( Pitru Shradh Puja Vidhi ) Kaise Kare Pitru Shradh Puja

पितृ पक्ष में श्राद्ध के उपाय || Pitru Paksha Me Shradh Ke Upay

पितृ सूक्त ( Pitru Suktam ) Pitru Suktam Lyrics

पितृ कवच ( Pitra Kavach ) Pitra Dosh Nivaran Kavach

पितर देव की आरती ( Pitra Dev Ki Aarti ) Shri Pitar Ji Ki Aarti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *