नरक चतुर्दशी के उपाय ( Narak Chaturdashi Ke Upay ) Choti Diwali Ke Upay

नरक चतुर्दशी के उपाय, Narak Chaturdashi Ke Upay, Narak Chaturdashi Ke Totke, Narak Chaturdashi Ke Din Ke Upay, Narak Chaturdashi Ke Din Kya Kare, Narak Chaturdashi Kya Karna Chahiye, Kya Kare Narak Chaturdashi Ke Din.

नरक चतुर्दशी के उपाय || Narak Chaturdashi Ke Upay

हम आपको Narak Chaturdashi Ke Upay बताने जा रहे हैं ! जिन्हें आप नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली के दिन और नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली की रात में कर सकते हैं ! नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली के दिन व् रात में किये गये उपाय व् टोटके और सामान्य दिनों की तुलना में बहुत जल्द प्रभाव देते है जिनका असर आपको अपने जीवन में देखने को बहुत जल्दी मिल जाता हैं ! और आप नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली के दिन बताये गुए उपाय को करके अपने जीवन से जुडी कुछ परेशानी को आसानी से दूर कर सकते हैं ! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi द्वारा बताये जा रहे नरक चतुर्दशी के उपाय || Narak Chaturdashi Ke Upay को करके आप भी अपने जीवन में फायदा व् लाभ उठा सकते है !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता–पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Narak Chaturdashi Ke Upay By Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi

नरक चतुर्दशी के उपाय || Narak Chaturdashi Ke Upay

  • नरक चतुर्दशी का पर्व धनतेरस के अगले दिन आता है इस दिन सूर्य उदय से पूर्व उठकर तेल लगाकर और पानी में चिरचिरी के पत्ते डालकर उससे स्नान करने श्री विष्णु मंदिर और कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन करना चाहिए। इससे पाप कटता है और रूप सौन्दर्य की प्राप्ति होती है ।
  • इस दिन कई जगह पर रात के समय घर का सबसे बड़ा बुजुर्ग सदस्य एक दीया जला कर पूरे घर में घुमाता है और फिर उसे घर से बाहर ले जाकर कहीं दूर रख कर आता है। घर के अन्य सदस्य अंदर रहते हैं और इस दीये को नहीं देखते। यह दीया यम का दीया कहलाता है। माना जाता है कि पूरे घर में इसे घुमा कर बाहर ले जाने से सभी बुराइयां और कथित बुरी शक्तियां घर में जो विधमान रहती है वह इस दिये से बाहर चली जाती हैं। अत: Narak Chaturdashi के दिन यह उपाय अवश्य किया जाना चाहिए। 

  • Narak Chaturdashi को रूप चतुर्दशी एवं छोटी दीपावली के नाम से भी मनाया जाता है। इस दिन श्री कृष्ण ने नरकासुर दैत्य का वध करके लोगों को अत्याचार से मुक्ति दिलाई थी। साथ ही यह भी मान्यता है कि इस दिन घरों में पितृश्वरों का आगमन होता है, अत: उनकी आत्मा की शांति के लिए यमराज के निमिश्र घर के बाहर तेल का चौमुख दीपक जलाया जाता है। यह पूजन करने की विधि निम्न प्रकार से है ! तद्पश्चात एक थाली में एक चौमुखी दीपक और सोलह छोटे दीपक लेकर तेल बाती डालकर जलाना चाहिए। इसी दिन देवाधीदेव महादेव के एकादश अवतार बजरंग बली भगवान हुनमान जी की जयंती भी मनाई जाती है। फिर रोली, धूप, अबीर, गुलाल, गुड, फूल आदि से पंचोपचार पूजन करें। यह पूजन स्त्रियों को घर के परूषों के बाद करना चाहिए। पूजा के बाद चौमुखी दीपक को घर के मुख्य द्वार पर रख दें और बाकी दीपक घर के अलग अलग स्थानों पर रख दें। माँ लक्ष्मी की पूजा आज भी की जाती है | Narak Chaturdashi के दिन अभ्यंगस्नान, यमतर्पण, आरती, ब्राह्मणभोज, वस्त्रदान, यमदीपदान, प्रदोषपूजा, शिवपूजा, दीपप्रज्वलन जैसी धार्मिक विधियां करने से कोई भी मनुष्य अपने सभी पाप बंधन से मुक्त हो कर हरीपद को प्राप्त कर्ता है |
  • Narak Chaturdashi के दिन सूर्योदय से पूर्व उठ जाना चाहिए फिर नित्य कामों से निवृत्त होकर तिल के तेल से शरीर का मालिश करें। इसके बाद स्नान करें। स्नान करने के बाद श्री कृष्ण, धनवंतरी और यम देवता के सामने दीपक जलाकर अपनी सेहत और लंबी आयु के लिए प्रार्थना करें।

हमारे Youtube चैनल को अभी SUBSCRIBES करें ||

मांगलिक दोष निवारण || Mangal Dosha Nivaran

दी गई YouTube Video पर क्लिक करके मांगलिक दोष के उपाय || Manglik Dosh Ke Upay बहुत आसन तरीके से सुन ओर देख सकोगें !

  • Narak Chaturdashi के दिन दोपहर के समय श्री हनुमान जी के मंदिर जाकर दर्शन करें और उन्हें प्रसाद के रूप में गुड और चने का भोग लगाये ! साथ ही दीपक जलाकर प्रार्थना करें।
  • नरक चतुर्दशी के दिन व् शाम के समय अपने पूरे घर में दीपक जलाएं। और माता लक्ष्मी और कुबेर के मंत्रों के साथ जाप करें। साथ ही आर्थिक समृद्धि का कामना करें।
  • अगर घर में धन नहीं रूकता तो Narak Chaturdashi के दिन श्रद्धा और विश्वास के साथ लाल चंदन, गुलाब के फूल व रोली लाल कपड़े में बांधकर पूजें और फिर उसे अपनी तिजोरी में रखें, धन घर में रूकेगा और बरकत होगी ।
  • Narak Chaturdashi की शाम को अपने पूरे घर में दीपक जलाएं । और माता श्री लक्ष्मी जी और कुबेर के मंत्रों के साथ जाप करना चाहिए ! ऐसा करने से आर्थिक समृद्धि बनी रहती हैं । 

  • नरक चतुर्दशी यानि की छोटी दिवाली को प्रातःकाल हाथी को गन्ना या मीठा खिलाने से जातकों को तकलीफों से मुक्ति मिलती है ।
  • Narak Chaturdashi यानि की छोटी दिवाली के दिन अपने पितृ की आत्मा की शांति के लिए एक थाल को सजाकर उसमें एक चौमुख दीया तथा सोलह छोटे दीप तेल के जलाएं । पर उन्हें जलाने से पहले व्यक्ति को अपने ईष्ट देव की पूजा करें । व् उसके बाद अपने कार्य स्थान की पूजा करें । उसके बाद चौमुख दीया को अपने घर के दरवाजे पर रखें और बाकी दिए को घर के अलग स्थान पर रख दें ! ऐसा करने से अकाल मृत्यु का भय नहीं होगा !  इसे यमराज के लिए भी दीपदान करना कहते हैं ! 

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post :

छोटी दिवाली का महत्व || Choti Diwali Ka Mahatva

नरक चतुर्दशी व्रत कथा || Narak Chaturdashi Vrat Katha

नरक चतुर्दशी की पूजा की विधि || Narak Chaturdashi Ki Puja Ki Vidhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *