मंगल ग्रह के मंत्र ( Mangal Grah Ke Mantra ) Mangal Grah Ke Tantrik Mantra

मंगल ग्रह के मंत्र, Mangal Grah Ke Mantra, Mangal Grah Ke Tantrik Mantra, Vedic Mangal Grah Ke Mantra, Tantrik Mangal Grah Ke Mantra, Beej Mangal Grah Ke Mantra, Poranik Mangal Grah Ke Mantra, Gayatri Mangal Grah Ke Mantra.

आपकी कुंडली के अनुसार 10 वर्ष के आसन उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) आज ही बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में अभी Mobile पर कॉल या Whats app Number पर सम्पर्क करें : 7821878500

मंगल ग्रह के मंत्र || Mangal Grah Ke Mantra

आज हम आपको Mangal Grah Ke Mantra बताने जा रहे हैं ! यदि आपकी कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर हो या नीच का हो या मंगल की दशा या अन्दर दशा आपको बुरा फल दे रही हो या किसी भी कारन से मंगल बुरा फ़ल दे रहा हैं तो आप मंगल के मन्त्रों का जाप करके मंगल ग्रह को अनुकूल कर सकते हैं ! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi द्वारा बताये जा रहे मंगल ग्रह के मंत्र || Mangal Grah Ke Mantra को पढ़कर आप भी मंगल ग्रह के मन्त्रों का जाप करके अनुकूल बना सकोंगे !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Mangal Grah Ke Mantra By Acharya Pandit Lalit Trivedi 

मंगल ग्रह के मंत्र || Mangal Grah Ke Mantra

मंगल वैदिक मंत्र : Vedic Mangal Grah Ke Mantra

“ऊँ अग्निमूर्धादिव: ककुत्पति: पृथिव्यअयम। अपा रेता सिजिन्नवति ।”

मंगल तांत्रिक मंत्र : Tantrik Mangal Grah Ke Mantra

  • ऊँ हां हंस: खं ख:
  • ऊँ हूं श्रीं मंगलाय नम:
  • ऊँ क्रां क्रीं क्रौं स: भौमाय नम:

मंगल एकाक्षरी बीज मंत्र : Beej Mangal Grah Ke Mantra

  • ऊँ अं अंगारकाय नम:
  • ऊँ भौं भौमाय नम:

यदि आपके जीवन में भी मंगल ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

मंगल का पौराणिक मंत्र : Poranik Mangal Grah Ke Mantra

ऊँ धरणीगर्भसंभूतं विद्युतकान्तिसमप्रभम । कुमारं शक्तिहस्तं तं मंगलं प्रणमाम्यहम ।।

मंगल गायत्री मंत्र : Gayatri Mangal Grah Ke Mantra

“ॐ अंगारकाय विद्महे शक्ति हस्ताय धीमहि, तन्नो भौमः प्रचोदयात्” ।।

मंगल ग्रह जप संख्या : 

10,000 मंगलवार को मंगल की होरा में ।

मंगल ग्रह दान-द्रव्य : 

मूंगा, सोना, तांबा, मसूर, गुड़, घी, लाल कपड़ा, लाल कनेर का फूल, केशर, कस्तूरी, लाल बैल, खांड, सौंफ, गेहूँ ,माचिस, कस्तूरी, लाल चंदन, लाल गुलाब, सिन्दूर, शहद, लाल पुष्प, शेर, मृगछाला, लाल कनेर, लाल मिर्च, लाल पत्थर, लाल मूंगा, गुड़ निर्मित रेवड़ियां, बैल, सुवर्ण, नारियल, मीठी रोटी, मंगल का दान युवा ब्राह्मण को देना लाभप्रद रहता है ।

मंगल ग्रह ज़प और दान का समय :

मंगल का दान युवा ब्राह्मण को देना लाभप्रद रहता है ।

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी मंगल ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

मंगल ग्रह के उपाय || Mangal Graha Ke Upay

मंगल ग्रह की शांति के उपाय || Mangal Grah Ki Shanti Ke Upay

मंगल को मजबूत करने के उपाय || Mangal Ko Majboot Karne Ke Upay

मंगल को प्रसन्न करने के उपाय || Mangal Ko Prasan Karne Ke Upay

मंगल की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Mangal Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

मंगल ग्रह के लाल किताब उपाय || Mangal Grah Ke Lal Kitab Upay

मंगल स्तोत्र || Mangal Stotram

श्री अंगारक स्तोत्रम् || Sri Angaraka Stotram

मंगल कवच || Mangal Kavacham

मंगल अष्टोत्तर शतनामावली || Mangal Ashtottara Shatanamavali

अंगारक अष्टोत्तर शतनामावली || Angaraka Ashtottara Shatanamavali

श्री अंगारक अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् || Sri Angaraka Ashtottara Shatanama Stotram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *