माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी कवच || Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी कवच, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham Ke Fayde, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham Ke Labh, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham Benefits, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham Pdf, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham in Sanskrit, Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham Lyrics. 

आपकी कुंडली के अनुसार 10 वर्ष के आसन उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope ) आज ही बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges ) में अभी Mobile पर कॉल या Whats app Number पर सम्पर्क करें : 7821878500

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी कवच || Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham

यह तो आप सब जानते है की षोडशी त्रिपुर सुन्दरी महाविद्या दस महाविद्याओं में तीसरे स्थान की साधना मानी जाती हैं ! Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham पढ़ने से साधक तंत्रो में उल्लेखित मारण, मोहन, वशीकरण, उच्चाटन, स्तम्भन आदि विधाएं प्राप्त हो जाती हैं ! साधक को शारीरिक रोग, मानसिक रोग और और अन्य रोग का भी भय नहीं रहता हैं ! साधक को अपने जीवन में धन, यश, आयु, भोग और मोक्ष आदि की प्राप्ति होती हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham By Acharya Pandit Lalit Trivedi

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी कवच || Maa Shodashi Tripura Sundari Kavacham

ॐ पूर्वे मां भैरवी पातु बाला मां पातु दक्षिणे ।

मालिनी पश्चिमे पातु त्रासिनी उत्तरेऽवतु ।।

ऊधर्व पातु महादेवी महात्रिपुरसुन्दरी ।

अधस्तात् पातु देवेशी पातालतलवासिनी ।।

आधारे वाग्भव: पातु कामराजस्तथा हदि ।

डामर: पातु मां नित्यं मस्तके सर्वकामद: ।।

ब्रह्मरन्ध्रे सर्वगात्रे छिद्रस्थाने च सर्वदा ।

महाविद्या भगवती पातु मां परमेश्वरी ।।

ऐं ह्रीं ललाटे मां पातु क्लीं क्लूं सश्च नेत्रयो: ।

नासायां मे कर्णयोश्च द्रीं द्रैं द्रां चिबुके तथा ।।

सौ: पातु गले ह्रदये सह ह्रीं नाभिदेशके ।

कलह्रीं क्लीं स्त्रीं गुहादेशे स ह्रीं पादयोस्तथा ।।

सह्रीं मां सर्वत: पातु सकली पातु सन्धिषु ।

जले स्थले तथाऽऽकाशे दिक्षु राजग्रहे तथा ।।

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी साधना विधि || Shodashi Tripura Sundari Sadhana Vidhi

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी देवी मंत्र || Maa Shodashi Tripura Sundari Devi Mantra

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी स्तुति || Maa Shodashi Tripura Sundari Stuti

माँ षोडशी त्रिपुर सुन्दरी स्तोत्र || Maa Shodashi Tripura Sundari Stotra

श्री षोडशी त्रिपुर सुन्दरी अष्टकम || Shri Shodashi Tripura Sundari Ashtakam

त्रिपुर सुन्दरी वेद पाद स्तोत्रम् || Tripura Sundari Veda Pada Stotram

श्री त्रिपुर सुन्दरी वेदसार स्तोत्रम || Sri Tripurasundari Vedasara Stotram

त्रिपुर सुंदरी मानस पूजा स्तोत्र || Tripurasundari Manasa Puja Stotram

श्री षोडशी अष्टोत्तर शतनामावली || Shri Shodashi Ashtottara Shatanamavali

श्री षोडशी अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् || Shodashi Ashtottara Shatanama Stotram

बाला त्रिपुर सुंदरी अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् || Shri Bala Tripura Sundari Ashtottara Shatanama Stotram

श्री त्रिपुर सुन्दरी विजयस्तवः || Sri Tripurasundari Vijaya Stavah

श्री त्रिपुर सुन्दरी सानिध्य स्तवन || Sri Tripurasundari Sannidhya Stavam

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *