माँ काली मंत्र ( Maa Kali Mantra ) Goddess Mahakali Mantra

माँ काली मंत्र, Maa Kali Mantra, Goddess Mahakali Mantra, Goddess Mahakali Puja Mantra, Maa Kali Mantra Pdf, Maa Kali Mantra In Sanskrit, Maa Kali Mantra Lyrics, Maa Kali Mantra List. 

माँ काली मंत्र || Maa Kali Mantra

आज हम आपको महाकाली साधना विधि के बारे में बताने जा रहे हैं ! यह तो आप सब जानते है की दस महाविद्याओं में प्रथम स्थान पर महाकाली साधना मानी जाती हैं ! महाविद्या महाकाली साधना विधि के बारे में हम पहले ही जानकारी दे चुके हैं ! देवी महाकाली, दस महाविद्याओं में प्रथम साधना है महाकाली को चिंता मणि काली, स्पर्श मणि काली, संतति प्रदा काली, सिद्धि काली, दक्षिणा काली, कामकला काली, हंस काली, गुह्य काली आदि नामों से जाना चाहता हैं ! महाकाली मंत्र साधना माँ श्री दुर्गा जी का प्रथम उग्र रूप है !! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi द्वारा बताये जा रहे माँ काली मंत्र || Maa Kali Mantra को जानकर आप भी महाविद्या महाकाली साधना पूरी कर सकते हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 Maa Kali Mantra By Acharya Pandit Lalit Trivedi

माँ काली मंत्र || Maa Kali Mantra

नवरात्रि व् गुप्त नवरात्रि महाकाली मंत्र साधना पूजा करने का समय विधान : 

प्रात: पूजा करने से देवी का फल 40% प्राप्त होता हैं 

दिन की पूजा करने से 60% फल प्राप्त होता हैं 

संध्या पूजन से 80% फल प्राप्त होता हैं 

रात्रि पूजन करने से 100% फल प्राप्त होता हैं ।।

महा काली (पार्वती अथवा सती), शिव अर्धांगिनी तमो गुनी, विध्वंस से सम्बंधित, भयंकर स्वरूप वाली : 

१. चिंता मणि काली

२. स्पर्श मणि काली

३. संतति प्रदा काली

४. सिद्धि काली

५. दक्षिणा काली

६. कामकला काली

७. हंस काली

८. गुह्य काली

मुख्य नाम : महा-काली।

अन्य नाम : दक्षिणा या दक्षिण काली, कामकला काली, गुह्य काली, भद्र काली इत्यादि।

भैरव : महा-काल, मृत्यु के कारक देवता।

तिथि : आश्विन कृष्ण अष्टमी।

भगवान विष्णु के २४ अवतारों से सम्बद्ध : भगवान विष्णु।

कुल : काली कुल।

दिशा : सभी दिशाओं में।

स्वभाव : उग्र, तामसी गुण सम्पन्न।

वाहन : लोमड़ी।

तीर्थ स्थान या मंदिर : कालीघाट, कोलकाता, पश्चिम बंगाल। ५१ सती पीठों में एक।

कार्य : समस्त प्रकार के कार्यों का फल प्रदान करने वाली।

शारीरिक वर्ण : गहरा काला, श्याम वर्ण।

22 अक्षरी श्री दक्षिण काली मंत्र : 22 Akshar Shri Dakshin Kali Mantra

ॐ क्रीं क्रीं क्रीं हूँ हूँ ह्रीं ह्रीं दक्षिणे कालिके क्रीं क्रीं क्रीं हूँ हूँ ह्रीं ह्रीं स्वाहा॥

भद्रकाली मंत्र : Bhadra Kali Mantra

ॐ ह्रौं काली महाकाली किलिकिले फट् स्वाहा॥

श्री शमशान काली मंत्र : Shri Shamshan Kali Mantra

ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं कालिके क्लीं श्रीं ह्रीं ऐं॥ 

एकाक्षरी काली मंत्र : Ekakshari Kali Mantra

ॐ क्रीं॥

तीन अक्षरी काली मंत्र : 3 Akshar Shri Kali Mantra

ॐ क्रीं ह्रुं ह्रीं॥

पांच अक्षरी काली मंत्र : 5 Akshar Shri Kali Mantra

ॐ क्रीं ह्रुं ह्रीं हूँ फट्॥

षडाक्षरी काली मंत्र : 6 Akshar Shri Kali Mantra

ॐ क्रीं कालिके स्वाहा॥

सप्ताक्षरी काली मंत्र : 7 Akshar Shri Kali Mantra

ॐ हूँ ह्रीं हूँ फट् स्वाहा॥

यदि आपके जीवन में भी किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

श्री दक्षिणकाली मंत्र : Shree Dakshinkali mantra

ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं दक्षिणकालिके क्रीं क्रीं क्रीं ह्रुं ह्रुं ह्रीं ह्रीं॥

क्रीं ह्रुं ह्रीं दक्षिणेकालिके क्रीं ह्रुं ह्रीं स्वाहा॥

ॐ ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं दक्षिणकालिके ह्रुं ह्रुं क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं स्वाहा॥

ॐ क्रीं क्रीं क्रीं ह्रुं ह्रुं ह्रीं ह्रीं दक्षिणकालिके स्वाहा॥

संकटो को दूर करने का मंत्र : 

ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै:

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता, लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।
वामपादोल्लसल्लोहलता कण्टकभूषणा, वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

मन चाहा वर प्राप्ति का मंत्र : 

काली महाकाली कालिके परमेश्वरी । सर्वानन्दकरी देवी नारायणि नमोऽस्तुते ।।

ॐ क्रीं काल्यै नमः

मृत्यु के भय से बचने का मंत्र : 

क्रीं क्रीं क्रीं हूं हूं ह्रीं ह्रीं दक्षिण कालिके ! क्रीं क्रीं क्रीं हूं हूं ह्रीं ह्रीं स्वाहा

ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं परमेश्वरि कालिके स्वाहा

नोट : महाविद्या महाकाली साधना विधि आप बिना गुरु बनाये ना करें गुरु बनाकर व् अपने गुरु से सलाह लेकर इस साधना को करना चाहिए ! क्युकी बिना गुरु के की हुई साधना आपके जीवन में हानि ला सकती है ! 

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post : 

महाकाली साधना विधि || Mahakali Sadhana Vidhi

महाकाली स्तोत्र || Mahakali Stotra

कामकला काली स्तोत्र || Kamakala Kali Stotram

माँ काली कवच || Kali Kavacham

महाकाली कवच || Mahakali Kavacham

दक्षिणकालिका कवचम् || Dakshina Kalika Kavacham

श्री रूद्रयामल तन्त्रोक्तं कालिका कवचम् || Shri Rudrayamala Tantrokta Kalika Kavacham

माँ काली स्तुति || Maa Kali Stuti

कालिका अष्टकम || Kalika Ashtakam

माँ काली अष्टोत्तर शतनामावली || Maa Kali Ashtottara Shatanamavali

काली ककारादि अष्टोत्तर शतनामावली || Kali Kakaradi Naam Ashtottara Shatanamavali

काली शतनाम स्तोत्रम् || Kali Shatanama Stotram

श्री काली अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् || Shri Kali Ashtottara Shatanama Stotram

महाकाली अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम || Mahakali Ashtottara Shatanama Stotram

ककारादि काली शतनाम स्तोत्रम् || Kakaradi Kali Shatanama Stotram

आदया कालिका देव्याः शतनाम स्तोत्रम् || Adya Kalika Devyah Shatanama Stotram

श्री काली सहस्त्रनाम || Shri Kali Sahasranamam

माँ काली के 108 नाम || Maa Kali Ke 108 Naam

श्री काली चालीसा || Shri Kali Chalisa

श्री काली माता की आरती || Shri Kali Mata Ki Aarti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *