गुरु स्तोत्र ( Guru Stotram ) Guru Graha Stotram in Sanskrit

गुरु स्तोत्र, Guru Stotram, Guru Stotram Ke Fayde, Guru Stotram Ke Labh, Guru Stotram Benefits, Guru Stotram Pdf, Guru Stotram in Sanskrit, Guru Stotram Lyrics.

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

गुरु स्तोत्र || Guru Stotram

श्री गुरु स्तोत्रम् का नियमित जाप करने से जातक के ऊपर अपने गुरु का आशीर्वाद बना रहता हैं ! यह श्री गुरु स्तोत्रम् विश्वसारतन्त्र के अंतर्गत से लिया गया हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Guru Stotram By Acharya Pandit Lalit Trivedi

गुरु स्तोत्र || Guru Stotram

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः।

गुरुस्साक्षात्परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ॥१॥

अज्ञानतिमिरान्धस्य ज्ञानाञ्जनशलाकया।

चक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः॥२॥

अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरं।

तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः ॥३॥

अनेकजन्मसंप्राप्तकर्मबन्धविदाहिने ।

आत्मज्ञानप्रदानेन  तस्मै श्री गुरवे नमः ॥४॥

loading...

मन्नाथः श्रीजगन्नाथो मद्गुरुः श्रीजगद्गुरुः।

ममात्मासर्वभूतात्मा तस्मै श्री गुरवे नमः ॥५॥

बर्ह्मानन्दं परमसुखदं केवलं ज्ञानमूर्तिम्,

द्वन्द्वातीतं गगनसदृशं तत्त्वमस्यादिलक्ष्यम्।

एकं नित्यं विमलमचलं सर्वधीसाक्षिभूतं,

भावातीतं त्रिगुणरहितं सद्गुरुं तं नमामि ॥६॥

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आपके जीवन में भी गुरु ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here

Related Post : 

गुरु ग्रह के उपाय || Guru Grah Ke Upay

गुरु ग्रह की शांति के उपाय || Guru Grah Ki Shanti Ke Upay

गुरु को मजबूत करने के उपाय || Guru Ko Majboot Karne Ke Upay

गुरु को प्रसन्न करने के उपाय || Guru Ko Prasan Karne Ke Upay

गुरु की महादशा और अंतर्दशा के उपाय || Guru Ki Mahadasha-Antardasha Ke Upay

गुरु ग्रह के लाल किताब उपाय || Guru Grah Ke Lal Kitab Upay

गुरू ग्रह के मंत्र || Guru Grah Ke Mantra

श्री बृहस्पति स्तोत्रम् || Shri Brihaspati Stotram

गुरु कवच || Guru Kavacham

बृहस्पति कवच || Brihaspati Kavacham

गुरु अष्टोत्तर शतनामावली || Guru Ashtottara Shatanamavali

गुरु अष्टोत्तर शतनाम || Guru Ashtottara Shatanama

बृहस्पति अष्टोत्तर शतनामावली || Brihaspati Ashtottara Shatanamavali

गुरु अष्टोत्तर शतनामावली स्तोत्रम् || Guru Ashtottara Shatanamavali Stotram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *