छोटी दिवाली का महत्व ( Choti Diwali Ka Mahatva ) Narak Chaturdashi Ka Mahatva

छोटी दिवाली का महत्व, Choti Diwali Ka Mahatva, नरक चतुर्दशी का महत्व, Narak Chaturdashi Ka Mahatva, Narak Chaturdashi Kab Hai.

छोटी दिवाली का महत्व || Choti Diwali Ka Mahatva

नरक चतुर्दशी को काली चौदस, रूप चौदस, छोटी दीवाली या नरक निवारण चतुर्दशी आदि के नाम से भी जाना जाता है ! नरक चतुर्दशी का उसत्व कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के दिन बनाया जाता हैं ! यह दीपावली के पांच दिवसीय महोत्सव का दूसरा दिन है ! हिन्दू पुराणों की कथा के अनुसार भगवान श्री कृष्ण ने कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी तिथि को नरकासुर नाम के असुर का वध किया। नरकासुर ने 16 हजार कन्याओं को बंदी बना रखा था । नरकासुर का वध करके श्री कृष्ण ने कन्याओं को बंधन मुक्त करवाया !

नरक चतुर्दशी कब है ? || Narak Chaturdashi Kab Hai ? :

इस साल 2018 में धनतेरस नवम्बर महीने की 05 तारीख, वार सोमवार को मनाया जायेगा !

नरक चतुर्दशी हनुमान जयंती || Narak Chaturdashi Hanuman Jaynati

हमारे हिन्दू मान्यता के अनुसार नरक चतुर्दशी के दिन श्री हनुमान जयंती भी बनाई जाती हैं ! वाल्मीकि जी ने रामायण में कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चौदस तिथि के दिन श्री हनुमान जी ने माता अंजना के गर्भ से जन्म लिया था ऐसा उल्लेख मिलता हैं ! इसलिए इस दिन व्यक्ति अपने दुखों से मुक्ति पाने के लिए श्री हनुमान जी की भक्ति करते हैं, और श्री हनुमान चालीसा, हनुमानअष्टक और सुन्दरकाण्ड आदि का पाठ करते हैं ! इस प्रकार हमारे देश में श्री हनुमान जयंती 2 बार बनाई जाती हैं ! एक बार चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि और दूसरी बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चौदस के दिन बनाई जाती हैं !

नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली || Narak Chaturdashi Yani Choti Diwali

नरक चतुर्दशी को छोटी दिवाली के नाम से भी जाना  जाता हैं  ! नरक चतुर्दशी यानि छोटी दिवाली को दिवाली से एक पहले बनाया जाता हैं ! इस दिन दीप दान करते हैं और अपने मकान के मुख्य दवार पर दीपक लगाये जाते हैं ! इस वजह से इसे छोटी दिवाली भी कहते हैं !

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

Related Post :

नरक चतुर्दशी व्रत कथा || Narak Chaturdashi Vrat Katha

नरक चतुर्दशी की पूजा की विधि || Narak Chaturdashi Ki Puja Ki Vidhi

नरक चतुर्दशी के उपाय || Narak Chaturdashi Ke Upay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *